कब्ज होने के कारण || Kabj hone ke karna

By | March 18, 2018

कब्ज होने के कारण || Kabj hone ke karna:

पेट में शुष्क मल का जमा होना ही कब्ज है। यदि कब्ज का शीघ्र ही उपचार नहीं किया जाये तो शरीर में अनेक विकार उत्पन्न हो जाते हैं। कब्जियत का मतलब ही प्रतिदिन पेट साफ न होने से है। एक स्वस्थ व्यक्ति को दिन में दो बार यानी सुबह और शाम को तो मल त्याग के लिये जाना ही चाहिये।

कब्ज के लक्षण :

कब्ज के लक्षणों में पेट का ठीक से साफ़ ना होना, अरुचि, भूख खुलकर न लगना, पेट में भारीपन, मुंह में छाले, पेट फूलना, गैस की तकलीफ, शौच साफ न होना, मल सूखा, कड़ा और कम निकलना, सिर दर्द, जी मिचलाना, कमर तथा जोड़ों में दर्द, आलस्य, चिड़चिड़ापन, कलेजे में धड़कन मालूम पड़ना, नींद न आना, जीभ पर सफेद परत जमी रहना आदि देखने को मिलते हैं।

कब्ज के कारण || kabj ke karna:

1  शौच समय पर नही करने  की आदत :- मल त्याग का वेग होते ही टट्टी चले जाना चाहिए। शिशु को माताएँ टट्टी करने हेतु सी-सी-सी आवाज करती है और बच्ची टट्टी करने लगता है। यह वेग बनाने की विधि है। प्रातः तो प्रायः मल त्याग कर लेते है लेकिन इसके बाद कार्य की व्यस्तता, मनोरंजन में लीन होने से मल त्याग की इच्छा रोक लेते है। वेग रोकते ही फिर ट्टटी नहीं आती। इससे कब्ज बनती और पुरानी हो जाती है। पेट में पायु भरने से पेट फूलने लगता है।

2. शारीरिक श्रम का अभाव :- धनवान एवं बुद्धिजीवी प्रायः शारीरिक श्रम नहीं करते इससे कब्ज रहती है।

3. मानसिक तनाव (ज्मदेपवद) :- चिन्ता, अशुभ विचार, वासनामय विचारों में लिप्त रहना, निरन्तर सोचते रहने से भीतरी अंगों में तनाव बना रहता है। इससे कब्ज होती हैं मानसिक तनाव, डिप्रेशन की चिकित्सा में दी जाने वाली एलोपैथिक दवाईयाँ कब्ज करती है। इस पर भी ध्यान देना है।

4. पानी की कमी:- पानी कम पीने से कब्ज होती है। प्यास लगने पर तो सब ही पानी पीते हैं, लेकिन प्रातः शौच से पहले, रात्रि में चार बजे, दोपहर के भोजन के एक घण्टा पहले व दो घण्टे बाद, रात को सोते समय पानी पीयें।

5. तम्बाकू, बीड़ी, चाय, अफीम, शराब आदि नशीली चीजों के सेवन से शरीर का स्नायु शिथिल हो जाता है जो कब्ज करता है। खाये हुए अन्न का पाक नहीं होता।

6. सही समय पर खाना न खाना भी कब्ज जैसी समस्या पैदा कर सकता है।

7. जंक फ़ूड या फ़ास्ट फ़ूड ज्यादा खाना

8. थाइरोइड हॉर्मोन का कम निकलना

9. प्रेगनेंसी समय के कारण

10. डिप्रेशन, चिंता और तनाव का होना

11. ज्यादा दवाइयों का सेवन करना

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *