घमौरी के कारण और इलाज

By | May 1, 2018

घमौरी के कारण:

चिलचिलाती गर्मी और तेज धूप लगभग सभी के शरीर पर छोटे छोटे दाने निकल आते हैं, जिन्हें हम घमौरियां कहते हैं। शरीर पर घमौरियां होने का मुख्य कारण है कि गर्मी में अक्सर पसीने की ग्रन्थियों का मुंह बन्द हो जाने के कारण हमारे शरीर पर छोटे-छोटे लाल दाने निकल आते हैं। इन दानों में खुजली व जलन होती है। सामान्य भाषा में हम इसे घमौरियाँ (Prickly heat या Miliaria) कहते हैं। गरम एवं आर्द्र (ह्युमिड) मौसम की दशा में घमैरी होती हैं।

घमौरी होने के लक्षण:-

  • जब यह रोग किसी व्यक्ति को हो जाता है तो उसकी त्वचा पर छोटी-छोटी और लाल-लाल फुन्सियां निकलती हैं,
  • जिसमें से कभी-कभी दूषित द्रव निकलने लगता है तथा इनमें खुजली भी होती रहती है।

घमौरियों का उपचार:

Ghamori Symptoms

नारियल:

  • रोजाना सुबह और शाम नहाने के बाद नारियल के तेल में कपूर को मिलाकर पूरे शरीर पर मालिश करने से घमौरियां दूर हो जाती हैं।

मुलतानी मिट्टी:

  • शरीर पर मुलतानी मिट्टी का लेप करने से घमौरियां कुछ ही दिनों में मिट जाती हैं।
  • क्योंकि मुलतानी मिट्टी का लेप करने के बाद जब मुलतानी मिट्टी सुखती है तो त्वचा को खिचती है।

बर्फ़:

  • घर में उपलब्ध बर्फ़ को घमौरियाँ वाले स्थान पर लगाने से घमौरियाँ ठीक हो जाती हैं।

नीम:

  • घमौरियों से बचने के लिए नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर नहाना चाहिए। इससे घमौरियाँ दूर हो जाएंगी।

तुलसी:

  • तुलसी की लकड़ी को पीसकर इसके चूर्ण का लेप घमौरियों पर लगाने से घमौरियाँ दूर हो जाती हैं।

शुद्ध देशी घी:

  • गाय या भैंस के शुद्ध देसी घी को घमौरियों वाली जगह पर लगाने से घमौरियाँ दूर हो जाती हैं।

अनानास:

  • अनानास के गूदे को घमौरियों वाली जगह पर लगाने से रोगी को आराम मिलता है।

नीम की पत्तियाँ :

  • नीम की कुछ पत्तियों को उबाल कर, उस पानी से स्नान करें। ऐसा करने से आप को घमौरियों से राहत मिलती है।
  • नीम और तुलसी की पत्तियों को लेकर एक पेस्ट तैयार करें फिर उसे घमौरियों वाले स्थान पर लगायें।
  • ऐसा करने से आप को ठंडक के साथ-साथ राहत का एहसास होगा ।

हेल्लो दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेन्ट करके जरुर बताना और अच्छी लगी हो तो शेयर जरुर करना धन्यवाद |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *