दमा का उपचार || Asthma in Hindi

By | May 5, 2018

दमा का उपचार || Asthma in Hindi:

आज की इस पोस्ट में दमा के बारे में जानेगे |

दमा एक ऐसी स्थिति है, जो फेफड़ों में मौजूद छोटे वायु मार्ग यानी ब्रॉन्क्रियल्स को प्रभावित कर देती है। इसकी शुरुआत किसी भी उम्र में हो सकती है, लेकिन ज्यादातर यह बचपन में ही शुरू हो जाता है।

सूक्ष्म श्वास नलियों में कोई रोग उत्पन्न हो जाने के कारण जब किसी व्यक्ति को सांस लेने में परेशानी होने लगती है तब यह स्थिति दमा रोग कहलाती है, इस रोग में व्यक्ति को खांसी की समस्या भी होती है।

Asthma in Hindi

दमा के लक्षण:

  • साँस लेने में कठिनाई होती है।
  • सांस लेते समय हल्की-हल्की सीटी बजने की आवाज भी सुनाई पड़ती है।
  • सिर भारी-भारी लगने लगता है।
  • रात के समय में लगभग 2 बजे के बाद दौरे अधिक पड़ते हैं।
  • स्थिति बिगड़ जाने पर उल्टी भी हो सकती है आदि।
  • यह रोग स्त्री-पुरुष दोनों को हो सकता है।
  • सीने में जकड़न जैसा महसूस होता है
  • रोगी को रोग के शुरुआती समय में खांसी, सरसराहट और सांस उखड़ने के दौरे पड़ने लगते हैं।

घरेलु उपचार:

नीम:- इससे शरीर में भरपूर ऊष्मा पैदा होती है। नीम को शहद में लपेटकर रोजाना सुबह ले सकते हैं।

शहद:- एक कटोरी में शहद लें और उसको सूंघने से दमा के रोगी को साँस लेने में आसानी होती है।

तुलसी:- तुलसी के कुछ पत्ते शहद और काली मिर्च में भिगोकर रख दें। तीन से चार घंटे इन्हें भिगोया रहने दें और फिर पत्तों को चबा लें। इससे दमा का दौरा पड़ने की आशंका बेहद कम हो जाएगी।

लहसुन:- 30 मिली दूध में लहसुन की पांच कलियां उबालें और इस मिश्रण का हर रोज सेवन करने से दमे में शुरुआती अवस्था में काफी फायदा मिलता है।

आंवला:-दो छोटे चम्मच आंवला का पावडर एक कटोरी में ले और उसमें एक छोटा चम्मच शहद डालकर अच्छी तरह से मिला लें। हर रोज सुबह इस मिश्रण का सेवन करें।

मैथी :- मैथी का काढ़ा तैयार करने के लिए एक चम्मच मैथीदाना और एक कप पानी उबालें। हर रोज सुबह-शाम इस मिश्रण का सेवन करने से निश्चित लाभ मिलता है।

तो दोस्तों बताई की यह पोस्ट केसी लगी | हम से जुड़ने के लिए धन्यवाद् |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *