Beriberi Meaning || बेरीबेरी रोग क्या है?

By | May 8, 2018

Beriberi Meaning || बेरीबेरी रोग क्या है? :

बेरीबेरी Vitamin B1 की कमी से होने वाला रोग है। ये हमारे शरीर के बहुत से हिस्सों जैसे मांसपेशियां, हृदय और पाचन शक्ति आदि को प्रभावित करता है।

यदि समय पर बेरीबेरी का उपचार न हो तो इस रोग से व्यक्ति की मौत भी संभव है. ऐसे में यदि आपके खाने में प्रचुर मात्रा में विटामिन बी 1 है तो बेरीबेरी रोग का खतरा बेहद कम हो जाता है. मीट, डेरी उत्पाद तथा अनाज विटामिन बी 1 के मुख्य स्त्रोत हैं जो बेरीबेरी रोग से आपकी सुरक्षा करते हैं।

बेरीबेरी रोग दो प्रकार का होता है पहला आर्द्र बेरीबेरी और दूसरा शुष्क बेरीबेरी। शुष्क बेरीबेरी नर्व को कमजोर कर देता है जिससे मांसपेशियों की शक्ति खत्म हो जाती है और आर्द्र या वेट बेरीबेरी हार्ट को प्रभावित करता है। ऐसी अवस्था में मनुष्य का हार्ट भी फेल हो जाता है।

बेरीबेरी रोग के लक्षण:

  • मानसिक रूप से कंफ्यूज रहना।
  • धड़कन के दौरे।
  • फुफ्फुस क्षेत्र की सूजन।
  • वजन में कमी।
  • हाथ या पैरो में सुन्नपन लगना आदि।
  • थकान, दर्द और पैरों में सूजन बढ़ जाती है।

बेरीबेरी रोग के कारण:

  • बेरीबेरी रोग का प्रमुख कारण  तो विटामिन B1 की कमी का होना ही है।
  • शराब के कारण भी संभव हो जाता है।
  • जिस व्यक्ति में हाइपरथायरोडिज्म के ओवर एक्टिव वाले व्यक्ति को विटामिन बी 1 की अतिरिक्त मात्रा की जरूरत होती है।
  • गर्भावस्था के दौरान आहार।

बेरीबेरी रोग के घरेलू उपचार:

आलू:- आलू भी पोषक तत्वों से युक्त खाद्य पदार्थ है। इसमें फाइटोकेमीकल्स, आयरन, पोटेशियम, तांबा, विटामिन सी, विटामिन बी 1 और विटामिन बी 6 की उच्च मात्रा होती है।

बादाम:– बादाम में आवश्यक थियामिन होता है।

सूरज मुखी के बीज:- सूरज मुखी के बीज में सेलेनियम, टैनिन और ओमेगा 3 फैटी एसिड जैसे यौगिक होते है।

ब्राउन राइस:- सफेद चावल की तुलना में ब्राउन राइस  में कही अधिक पोषण तत्व होते है जो शरीर के लिये लाभदायक होते है बेरीबेरी से बचने के लिये रोजाना दो कटोरे ब्राउन राइस खाना आवश्यक है।

बीन्स:- बीन्स में बेहद पोषण तत्व होते है।

बीन्स में प्रोटीन कैल्शियम खनिज और थियानिन भी होती है

एल्कोहल:- जो व्यक्ति एल्कोहल का ज्यादा सेवन करते है उन्हें भी समय पर विटामिन की कमी की जाँच करवाते रहना चाहिये।

दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेन्ट करके बताओ | धन्यवाद् |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *