Bhujangasana || भुजंगासन

By | April 13, 2018

Bhujangasana || भुजंगासन क्या है ?

भुजंगासन को कोबरा पोज़ भी कहा जाता है क्योंकि इसमें शरीर के अगले भाग को सर्प के फन के तरह उठाया जाता है। भुजंगासन की जितनी भी फायदे गिनाए जाएं कम है। यह सिर से लेकर पैर की अंगुलियों तक फायदा पहुंचाता है। यह आसन शरीर को लचीला और फुर्तीला बनाये रखने में सक्षम होता है।

bhujangasana benefits in hindi

भुजंगासन कैसे करे:

Cobra Yoga Pose करने के लिए सर्वप्रथम पेट के बल लेट जाएं। इसके बाद हथेली को कंधे के सीध में रखे| आपके दोनों पैरों के बीच दुरी नहीं होना चाहिए, तथा पैर तने हुए होना चाहिए| इसके बाद साँस ले और शरीर के अगले भाग को ऊपर की और उठाये| इस वक्त एक बात का ख्याल रहे की कमर पर ज्यादा खिंचाव ना आने पाए| कुछ सेकंड्स इसी अवस्था में बने रहे| फिर गहरी सांस छोड़ते हुए सामान्य अवस्था में आ जाये| शुरुवाती दौर में इसे दो से तीन बारे करे और धीरे धीरे करने का समय बढाते जाये|

भुजंगासन करने के लाभ:

  • इस आसन के करने से रीढ़ की हड्डी मजबूत होती है।
  • इससे शरीर में रक्त और ऑक्सीजन का संचार होता है
  • यह पेट की चर्बी को घटाकर मोटापे को कम करता है।
  • महिलाओं के प्रजनन और मासिक संबंधित समस्याओं में भुजंगासन एक रामबाण की तरह काम करता है।
  • यह आसन भूख को बढ़ाने में मददगार है तथा कब्ज की समस्या को भी दूर करता है।
  • यह आसन उदर के सभी संबंधित अंगों, विशेष रूप से गुर्दो के लिए लाभदायक है।
  •  इससे शरीर लचीला और फुर्तिला होगा।
  • गला संबंधित समस्या में भी यह आसन गुणकारी है|
  • यह आसन महिलाओं के प्रजनन सम्बन्धी विकारों को जैसे प्रदर, कष्टप्रद मासिक धर्म और अनियमित मासिक धर्म आदि के कष्ट को दूर करने में सहायक है।
  • साधारण तौर पर गर्भाशय और अण्डाशय को भी इस आसन से लाभ पहुंचता है।
  • यह आसन शरीर को लचीला, स्वस्थ व पुष्ट बनता है।
  • स्लिप डिस्क सम्बन्धी छोटे-मोटे दर्द को तथा पीठ के समस्त प्रकार के दर्दो को यह आसन रामबाण की तरह काम करता है।
  • जिन लोगों को तनाव और थकान की समस्या सताती है उन्हें यह आसन जरूर करना चाहिए।
  • यह आसन दिल और फेफड़ों के मार्ग को साफ करने में भी मदद करता है।

हेल्लो दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेंट्स करके बताना और साथ ही साथ पोस्ट अच्छी लगी हो तो शेयर जरुर करना धन्यवाद |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *