Bivai ka Elaj
Bivai ka Elaj

Bivai ka Elaj || बिवाई का उपचार:

Bivai ka Elaj

हेल्लो दोस्तों आज की इस पोस्ट में यह जानेगे की पेरो में बिवाई पड़ने के क्या कारण है

बिवाई को एड़ियों का फटना भी कहा जाता है। लेकिन इससे गंभीर चिकित्सकीय समस्या भी पैदा हो सकती है। एड़ियों की बिवाई उस समय सामने आती है, जब एड़ियों के नीचे की बाहरी सतह की त्वचा कड़ी, सूखी और भुरभुरी हो जाती है। कभी-कभी तो बिवाई इतनी गहरी होती है कि उसमें दर्द होने लगता है।

बिवाई के कारण:

  • प्राकृतिक रूप से सूखी त्वचा।
  • सूखी जलवायु में रहना
  • पीछे से खुली चप्पल या सैंडल।
  • अधिक वजन के कारण तलवे का अधिक फैलना।
  • उम्र ज्यादा होना के साथ-साथ पेरो का फटना ।
  • किसी बीमारी के कारण

उपचार और बचाव:

  • सुबह दिन की शुरुवात होने से पहले त्वचा में लचीलापन लाने के लिए एडी बाम का प्रयोग करे।
  • एक टब में गुनगुना पानी लें। इसमें एक चम्मचनमक और आधा चम्मच पिसी हुई फिटकरी डालें।
  • इसमें अपने पैर डालकर  15 मिनट भिगोये । इस प्रकार पैर भिगोने के बाद रगड़ कर डेड स्किन निकालें।
  • छत्ते का प्राकृतिक मोम  25 ग्राम और  50  ग्राम तिल का तेल मिलाकर गर्म करें।
  • अच्छी तरह मिक्स हो जाने पर इसे किसी चौड़े मुह वाली शीशी में भर लें। ये मलहम तैयार है।
  • पैर सूखने के बाद ये मोम बिवाइयों में  लगाएं ।
  • इस प्रकार रोज ये मलहम लगाने से एक सप्ताह में ही बिवाइयां ठीक हो सकती है।
  • अपनी एडी को दिन में 2 से 3 बार नमी युक्त करें।

तो अब बताए की आज की पोस्ट केसी लगी | कमेन्ट करके धन्यवाद |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here