Blood Clotting in Hindi || खून का थक्का

By | May 7, 2018

Blood Clotting in Hindi || खून का थक्का:

शरीर में खून का थक्का बनने और उसके घुलने की प्रक्रिया सहज रूप में चलती रहती है। खून का थक्का बनने की इसी खूबी के कारण चोट लगने पर खून का बहना खुद ही रुक जाता है। चोट ठीक होने पर यह थक्के घुल भी जाते हैं। पर जब इस प्रक्रिया में अड़चन आती है तो खून का थक्का बना ही रह जाता है।

blood clotting process

blood clotting process

खून में थक्‍के के कारण:

  • अगर आपको मोटापा है।
  • अगर आपको मेनोपोज हो चुका है।
  • लगातार धूम्रपान करने से।
  • लंबी अवधि तक एक जगह बैठे रहना।
  • लोग लगातार 10 घंटे तक काम करते हैं और इस दौरान कोई विराम नहीं लेते तो उनमें खून के थक्के जमने का खतरा दोगुना हो जाता है।

खून में थक्‍के के लक्षण:

  • अचानक चक्कर आना
  • चलने में समस्या
  • सूजन होना
  • नाक और मसूड़ों से रक्तस्नव
  • बिना कारण के अचानक तेज सिरदर्द
  • खून के प्लेटलेट्स में अत्यधिक गिरावट

खून में थक्‍के के घरेलू उपाय

  • नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • वजन को नियंत्रित करें।
  • धूम्रपान छोड़े और कम मात्रा में शराब का सेवन करें।
  • काली चाय खून को गाढ़ा बनने से रोकती है जिस वजह से धमनियों में खून का थक्का जमने से रूकता है। तो काली चाय का सेवन करना चाहिए |
  • फल, सब्जियों और अनाज का सेवन अधिक और नमक और फैट का सेवन कम करें।

दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेन्ट करके जरुर बताना |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *