Boil or pimple || फोड़ा या फुंसी:

फोड़ा या फुंसी एक बहुत ही गहरा संक्रमण कूपशोथ है, यह लगभग हमेशा स्टैफिलोकोकस और यूस नामक जीवाणु के कारण होता है।

संकेत तथा लक्षण:

  • कठोर त्वचा के ऊतकों
  • लाली, कोमलता, और इस क्षेत्र में गर्मी
  • कुछ मामलों में बुखार या ठंड लगना
  • द्रव या मवाद निकलना
  • त्वचा के घाव जो एक खुला या बंद हो सकता है और उसमें पीड़ा हो सकती है।

कारण:

यह त्वचा में मौजूद जीवाणु जैसे स्टैफीलोकोसी के कारण होता है। जीवाणु संबंधी उपनिवेशण बाल के रोम से शुरू होता है और इसके कारण सामान्य कोशिका प्रवाह तथा सूजन होने लगता है।

उपचार:

सभी फुंसी के ईलाज के लिए उनको अन्दर से खाली करना पड़ता है। ख़ाली करने के लिए एक कपडे को गर्म नमक के पानी से भिगोने पर वह ज्यादा कारगर होता है।

boil or pimple in hindi
boil or pimple in hindi

नीम:

नीम की पत्तियो को पीस कर या फिर पेड़ की छाल (छोडा) कर रगड़े और हलके पानी के साथ लेप तैयार करे और फोड़े पर लगा दे कुछ ही समय या दिनों में ही फोड़ा या तो पक कर फुट जायेगा या फिर दब जायेगा।

पीपल का पत्ता:

पीपल का पत्ता पर देसी घी हलकी लगा कर गर्म करे जितना गर्म आप सह सके उतना ही गर्म करे और फोड़े पर इसको रख कर सिकावत करे आराम मिलेगा ध्यान रहे की जब चेहरे के फोड़े के लिए ऐसा न करे।

फल फ्रूट्स:

अमरुद , केला , जामुन ,आवला जैसे फल खाये जिससे पेट साफ होगा और पेट की गर्मी भी दूर होगी। जिससे खून साफ होगा और फोड़े फुंसी नही होंगे।

हेल्लो दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेन्ट करके जरुर बताना और अच्छी लगी हो तो शेयर जरुर करना धन्यवाद |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here