Bronchitis Treatment in Hindi || ब्रोंकाइटिस कारण, लक्षण

By | May 8, 2018

Bronchitis Treatment in Hindi || ब्रोंकाइटिस कारण, लक्षण :

जब श्वासनली तथा इसकी शाखाओं में संक्रमण या एलर्जी के कारण सूजन आने के कारण श्वास संबंधी समस्या होती है तो उस स्थिति को ब्रोंकाइटिस कहते हैं।

ब्रौनकियल नलियाँ, या ब्रौन्काई, श्वास की नली को फेफड़ों के साथ जोड़ती हैं । ब्रौनकियल नलियाँ जब ज्वलनशील या संक्रमित हो जाती हैं, तो उस अवस्था को ब्रौनकाईटिस कहते हैं। ब्रां‍काइटिस फेफड़ों में बहती हुई हवा और ऑक्सीजन के प्रवाह को कम कर देती है

लंबे समय से बनी रहने वाली खांसी या ब्रोंकाइटिस में श्वास नली में लगातार जलन और दर्द बना रहता है इस प्रकार का ब्रोंकाइटिस धूम्रपान या प्रदूषण के लगातार में संपर्क में आने की वजह से होता है।

Bronchitis

Bronchitis

ब्रांकाइटिस रोगी के लक्षण:

  • नाक बहना या बंद होना।
  • हांफने की दिक्कत होना।
  • ब्रांकाई की सूजन।
  • बार-बार छाती में जलन।
  • सर्दी-जुकाम बने रहना।
  • सांस के साथ सीटी की आवाज होना।
  • सांस फूलना।
  • बुखार आना।
  • नाक का भरना।
  • सिरदर्द।

ब्रांकाइटिस रोग के कारण:

  • कुछ लोगों में यह रोग जन्मजात होता है।
  • तम्बाकू के धुएं की चपेट में आना।
  • प्रदूषक या साल्वेंट की चपेट
  • हाँफना
  • साँस की घरघराहट,  थकावट
  • बुखार और सर्दी ज़ुकाम
  • न्यूमोनिया भी ब्रोंकाइटिस का मुख्य कारण होती है।

ब्रांकाइटिस रोग के उपचार:

  • इस रोग से पीड़ित रोगी की रीढ़ की हड्डी पर मालिश करनी चाहिए तथा इसके साथ साथ उसकी कमर पर सकाई भी करनी चाहिए।
  • गले में खराश की शिकायत होने पर गर्म पानी में नमक डालकर गरारे करें।
  • एक गिलास दूध में चुटकी भर हल्दी डाल कर उबाल लें फिर इसे खाली पेट एक चम्मच देशी घी के साथ दिन में दो बार लें।
  • वायु प्रदूषण, व धूल से बचें।
  • सोते समय सिर बिस्तर से ऊंचा रखने के लिए तकिए का प्रयोग करें।

ब्रांकाइटिस रोग के घरेलू उपचार:

  • दो चम्मच शहद में, दो चम्मच अदरक के रस को मिलाकर सेवन करने से ब्रांकाइटिज रोग ठीक होता है।
  •  गले की सूजन और खराश में यह काफी असरदार होता है।  लहसुन के दो-तीन टुकड़े को पानी के साथ चबा कर सुबह खाएं
  • आधा गिलास उबले हुए पानी में दालचीनी के पाउडर और सौंठ को बराबर मात्रा में मिला लें। जब यह गुनगुना हो जाए तब इसे पीएं।
  • आप थोड़ी-थोड़ी देर में गर्म पानी पीते रहें। इससे आपके गले की सिकाई होगी और आपको आराम मिलेगा।

दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेन्ट करके जरुर बताना | धन्यवाद् |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *