Diarrhea in Hindi || डायरिया (दस्त) का घरेलू उपचार

By | May 10, 2018

Diarrhea in Hindi || डायरिया (दस्त) का घरेलू उपचार:

डायरिया या दस्त लगना काफी परेशानी देने वाली समस्या होती है। क्यूंकि इसमें व्यक्ति को बार-बार मल त्यागने की इच्छा होती है और मल काफी पतला निकलता है। डायरिया बच्चों, जवानों और बूढ़ों सभी को हो जाने वाला आम रोग है।

डायरिया में शरीर में पानी की कमी हो जाती है जिसे डिहाइड्रेशन कहते हैं जो काफी गंभीर होता है। इससे शरीर कमजोर हो जाता है, शरीर में संक्रमण फैलने का खतरा काफी बढ़ जाता है। समय पर इलाज नहीं होने पर मरीज की जान भी जा सकती है।

डायरिया के कारण:

  • गर्मियों में तेज मिर्च मसाले वाला भोजन खाने से भी डायरिया हो जाता है।
  • अल्कोहल सेवन के साइड इफेक्ट में भी डायरिया होता है।
  • पेट में बैक्टेरिया के संक्रमण ।
  • आंतों में सूजन के बाद भी डायरिया होता है।
  • अचानक मौसम बदलने के कारण भी डायरिया होता है।
  • दूध,पनीर ,बासी मीट खाने से से भी डायरिया हो जाता है।
  • दूषित फल और पानी का सेवन से।
  • किसी खास एंटीबायोटिक्स के सेवन से भी डायरिया होता है।

डायरिया के लक्षण:

  • दस्त आने के पहले हलका मीठा पेट दर्द होना।
  • कभी थोड़ा गाढ़ा तो कभी पानी के समान की तरह तेजी के साथ मल निकलना।
  • आंतों में सूजन से हुआ डायरिया।
  • उल्टी, मितली आने के साथ पतला दस्त आता है।
  • यह पेट और आंत में एसिडिटी बनने से होता है।
  • आंतों में सूजन से हुआ डायरिया।

डायरिया का घरेलू उपचार:

  • अदरक की चाय पीने से पेट की पीडा कम होती है।
  • अदरक का रस, नीबूं का रस और काली मिर्च का पाउडर पानी में मिलाकर पीने से राहत मिलती है।
  • चावल आंतों की गति को कम करके दस्त को बांधता है।
  • डायरिया से बचाव के लिए मक्खियां बैठी या बिना ढकी हुई खाने-पीने की चीजें न खाएं।
  • डायरिया होने पर दूध और उससे बनी हुई चीजों का प्रयोग बंद करें।
  • डायरिया होने पर दो से तीन पके हुए केला रोज खाएं।

तो दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेन्ट करके जरुर बताना |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *