High Blood Pressure in hindi || उच्च रक्तचाप के उपचार

By | May 15, 2018

High Blood Pressure in hindi || उच्च रक्तचाप के उपचार:

हाई ब्‍लड प्रेशर आधुनिक जीवनशैली में आम स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या बन गई है। सामान्य स्वास्थ्य वाले व्यक्ति का उच्चतम रक्‍तचाप 120 तथा न्यूनतम 80 होता है। सेहतमंद रहने के लिए रक्‍तचाप सामान्य रहना बहुत जरूरी है। एक अनुमान के मुताबिक, दुनिया में बड़ी संख्‍या में लोग हाई ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या से ग्रस्‍त हैं।

धमनियो मे रक्त के दबाव को बढ़ने को Blood Pressure कहते है । धमनिया शरीर मे रक्त वाहिकाए होती है जो हृदय से रक्त को सभी अंगो तथा ऊतको (tissue) तक पहुंचाती है।

जब हमारा दिल धड़कता है तब असल में ये हमारे शरीर में मौजूद खून को पंप कर रहा होता है। शरीर में बिछी हुई नसों के जाल के सहारे यही ब्लड हमारे शरीर के अंगों तक ऑक्सीजन और अन्य एनर्जी पहुंचाता है। जब नसों में ब्लड बहता है तो ये नसों के किनारों पर दबाव बनाता है। बल्ड के इसी दबाव यानि प्रेशर को ब्लड प्रेशर कहते हैं।

उच्च रक्तचाप के लक्षण:

  • सिर चकराना
  • नाक से खून आना
  • थकावट होना
  • नींद न आना
  • हृदय की धड़कन बढ़ना
  • चक्कर आना
  • टांगों में दर्द
  • सांस लेने में कठिनाई
  • सिर के पीछे व गर्दन में दर्द
  • हृदय क्षेत्र में पीड़ा महसूस करना

उच्च रक्तचाप के कारण:

  • अधिक मात्रा में नमक का सेवन
  • पुरानी किडनी की बीमारी
  • बहुत अधिक मात्रा में मादक पदार्थों के सेवन से ब्ल्ड प्रेशर बढ़ जाता है
  • थाइरोइड डिसऑर्डर
  • नमक का ज्यादा सेवन
  • शराब पीना
  • तनाव
  • बढ़ती उम्र के साथ
  • आनुवंशिकता
  • धूम्रपान करने के कारण
  • मोटापा के कारण

उच्च रक्तचाप के उपचार:

  • जिससे कि हृदय की समस्याएं होने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे आहार लें जिनसे शरीर में कालेस्ट्राल का स्तर नियंत्रित रहे
  • मोटापे को नियंत्रित करने
  • नियमित व्यायाम करने
  • ज्यादा अल्कोहल, धूम्रपान का प्रयोग और नाशिली दवाओ का सेवन करने से बचे
  • मूली को सलाद के रूप में कच्चा या दही के साथ मिलाकर खाया जा सकता है।
  • तिल के लड्डू या तिल का पाउडर सलाद या दाल सब्जी में ऊपर से छिड़ककर खाने से लाभ होता है।
  • अलसी के बीज ओमेगा-3 फैटी एसिड में से एक है
  • जिससे इसमें अल्फा लिनोलेनिक एसिड नामक यौगिक की उच्च मात्रा होती है।

तो दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेन्ट करके जरुर बताना धन्यवाद् |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *