Malaria Home Treatment in Hindi

Malaria Home Treatment in Hindi || मलेरिया के लक्षण व उपचार:

मलेरिया मादा ऐनोफ्लीज मच्छर के काटने से फैलता है, जोकि गंदे पानी में पनपते हैं। ये मच्छर आमतौर पर दिन ढलने के बाद काटते हैं। जब संक्रमित मादा एनाफिलीज मच्छर किसी व्यक्ति को काटता है तो मलेरिया रोग हो जाता है।

मादा एनाफिलीज मच्छर जब किसी मनुष्य को काटता है तो वह रक्त को पतला करने के लिए अपने मुंह से विषैला द्रव छोड़ता है। उस द्रव में मलेरिया को उत्पन्न करने वाले जीवाणु होते है। इन जीवाणुओं के विषक्रमण से ही मलेरिया बुखार होता है। मलेरिया के तीन स्टेज होते हैं।

मलेरिया के प्रति सचेत रहने और आम लोगों में इसके प्रति जागरुकता फैलाने के लिए विश्व भर में प्रतिवर्ष 25 अप्रैल’ को ‘विश्व मलेरिया दिवस’ मनाये जाता है।

कोल्ड स्टेज:- इस स्टेज में रोगी को तेज ठंड के साथ कपकपी होती है।

हॉट स्टेज:- इस स्टेज में रोगी को तेज बुखार, पसीने और उलटी आदि की शिकायत हो सकती है।

स्वेट स्टेज:- इस स्टेज में रोगी को काफी पसीना आता है।Malaria Home Treatment in Hindi

मलेरिया के लक्षण || Malaria Symptoms:

  • बुखार आना।
  • ठंड लगना और कांपना।
  • सिरदर्द होना।
  • मांसपेशियों में दर्द होना।
  • जी मिचलाना।
  • उल्टीे होना या फिर डायरिया की शिकायत होना।
  • ये बुखार चढ़ता-उतरता रहता है।

मलेरिया से बचने के घरेलू उपाय:

  • सुबह-सुबह खाली पेट तुलसी के 4 से 5 पत्तों को अच्छि तरह से चबाकर खाएं।
  • 10 ग्राम तुलसी के पत्तों और 7 काली मिर्चों को पानी में पीसकर सुबह और शाम पीने से मलेरिया बुखार ठीक होता है ।
  • पीपल का चूर्ण बनाकर शहद मिलाकर सेवन करने से मलेरिया के बुखार में लाभ होता है।
  • सौंठ और पिसा धनिया को चूर्ण बराबर मात्रा में पानी के साथ लेने से भी मलेरिया बुखार में आराम मिलता है।
  • मलेरिया के रोगी को सेब खिलाएं, यह मलेरिया में फायदा करता है।
  • दाल-चावल की खिचड़ी, दलिया, साबूदाना का सेवन करें। ये पचने में आसान होते हैं और पोष्टिक भी होते हैं।
  • पिसी हुई काली मिर्च और नमक को नींबू में लगाकर मलेरिया के रोगी को चूसने को दें।
  • ऐसा करने से बुखार की गर्मी उतर जाती है।
  • गरम पानी में नींबू का रस मिलाकर पीने से बुखार की तीव्रता घटने लगती है।
  • जब बुखार न हो, 10 ग्राम तुलसी के पत्तों के रस में आधा चम्मच काली मिर्च का पाउडर मिलाकर चाट लें।
  • इससे मलेरिया बुखार खत्म हो जाता है।
  • तीन ग्राम चूना लें, इसे 60 मिली पानी में घोलें।
  • एक नींबू इसमें निचोड़ें। मलेरिया बुखार की संभावना होने पर यह मिश्रण पीएं।
  • यह नुस्खा प्रतिदिन लेने से बुखार से राहत मिलती है।
  • जामुन के पेड़ की छाल सुखाकर पीस लें।
  • 5 ग्राम चूर्ण, गुड़ के साथ दिन में 3 बार लेने से मलेरिया से राहत मिलती है।
  • मलेरिया ज्वर में अमरूद खाने से रोगी को लाभ होता है।

तो दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेंट्स करके जरुर बताना धन्यवाद्।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here