Myopia in Hindi || मायोपिया का इलाज

By | May 25, 2018

Myopia in Hindi || मायोपिया का इलाज:

आजकल अधिकाश लोगों की आंखों में रिफ्रैक्टिव विकार यानि किरणों के वक्र की समस्या के लक्षण दिखाई देने लगे हैं। इसमें निकट दृष्टि दोष यानि मायोपिया से सबसे ज्यादा लोग प्रभावित हैं।

आज के समय में दृष्टि दोष एक आम समस्या है| आँखों पर नंबर का चश्मा सामान्य बात हो गयी है और यह समस्या बहुत तेज़ी से बढ़ रही है|यदि किसी व्यक्ति को कम उम्र में चश्मा लग जाता है तो नंबर कुछ ही महीनों में बढ़ता जाता है| चश्मा लगाने से दृष्टि दोष धक जाता है मगर दूर नहीं होता हैं।Myopia in Hindi

मायोपिया के प्रकार:

साधारण मायोपिया:- यह सबसे आम निकट दृष्टि दोष है। इसमें आंख लंबी हो जाती है।

डिजनेरेटिव मायोमिया:- यह मायोपिया समय के साथ गंभीर होता जाता है और बढ़ता जाता है। इस तरह का मायोपिया अंधत्व का भी कारण होता है।

इनड्यूस्ड मायोपिया:- यह शरीर में ज्यादा दवाओं के इस्तेमाल या ग्लूकोज की ज्यादा मात्रा की वजह से होता है।

नोक्टूरनल मायोपिया:- इस मरह का मायोपिया दिन से ज्यादा कम रोशनी या रात के समय देखने में परेशानी करता है।

स्यूडोमायोपिया:- इस तरह का मायोपिया कार्य के दौरान ज्यादा फोकस करने से होता है। यह विडियो गेम या कंप्यूटर पर ज्यादा वक्त बिताने वाले बच्चों या युवाओं में होता है।

मायोपिया का उपचार:

  • आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए आंवला का प्रयोग करें।
  • नारियल, मिश्री, सौंफ और बादाम को मिलाकर मिक्सर तैयार करें और पाउडर बनायें। दिन में दो बार खाएं।
  • लंबे समय तक टेलीविजन देखने या पढ़ने से बचें।
  • त्रिफला चूरन रोजाना लें।
  • जहां काम करें, वहां पर्याप्त रोशनी होनी चाहिए।
  • ब्रीथिंग व्यायाम करें।
  • प्रदूषण या धूप में निकलने से पहले आंखों पर चश्मा पहनें।
  • लिकरेसी की जड़ का पाउडर और शहद मिलाकर दूध के साथ लें।
  • लिकरेसी की जड़ का पाउडर और शहद मिलाकर दूध के साथ लें।

तो दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेन्ट करके जरुर बताना धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *