Pancreatitis Treatment In Hindi

Pancreatitis Treatment In Hindi || अग्नाशयशोथ के लक्षण, कारण, इलाज:

अग्न्याशय में सूजन होना है। अग्न्याशय पेट के पीछे उदर गुहा में स्थित एक अंग है, अग्न्याशय सामान्य रूप से छोटी आंत में पाचन एंजाइमों को छोड़ता है। अगर यह पाचक एंजाइम छोटी आंत में पहुँचने से पहले ही सक्रिय हो जाते है तो यह अग्न्याशय को हानि पहुँचा सकते हैं।

जाने-माने आयुर्वेद वैद्य पद्मश्री बालेंदु प्रकाश ने आज लोगों के बीच गंभीर पैंक्रियाटाइटिस को लेकर जागरूकता पैदा करने की बात कही। अक्सर जानलेवा साबित होने वाली इस बीमारी से पीड़ित लोगों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है, उन्होंने चेतावनी दी और कहा कि मेनस्ट्रीम दवाओं के लाभ और आयुर्वेद के पारंपरिक ज्ञान को मिलाकर किए गए संयुक्त प्रयासों से ही इस बीमारी का सामना कर रहे लोगों का नए ढंग उपचार किया जा सकता है।Pancreatitis Treatment In Hindi

Pancreatitis Symptoms || अग्नाशयशोथ के लक्षण:

  • बुखार और दस्त आना।
  • ह्रदय की गति और श्वसन की दर दोनों बढ़ जाना है।
  • उदर संबंधी पीड़ा होती है लेकिन वह मरीज के पेट दर्द के परिमाण की तुलना में अपेक्षित रूप से कम गंभीर होती है।
  • मतली आना और उल्टी होना

Pancreatitis Causes || अग्नाशयशोथ के कारण:

  • आनुवंशिकता
  • एस्ट्रोजेन
  • एस्ट्रोजेन
  • सल्फोनामाइड्स
  • सल्फोनामाइड्स
  • टेट्रासाइक्लिन
  • थियाजाइड्स
  • आनुवंशिकता
  • अग्नाशय के कैंसर
  • टेट्रासाइक्लिन
  • थियाजाइड्स

अग्नाशयशोथ के घरेलू उपचार:

  • तरल पदार्थों एवं लवणों के पर्याप्त प्रतिस्थापन की व्यवस्था
  • दर्द राहत का प्रावधान. एक्यूट पैन्क्रियाटाइटिस के लिए पसंदीदा दर्द नाशक औषधि मॉर्फिन है।
  • काले अंगूर में महत्वपूर्ण एंटीऑक्सीडेंट  शामिल होते हैं। जो कि अग्नाशय के लिए बेहद फायदेमंद हैं।
  • सुबह सबसे पहले पानी में नींबू डालकर पीने से भी रोगी को काफी राहत हो सकती है।
  • ब्लूबेरी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट अग्नाशयशोथ बढ़ाने में मौजूद कणों का नष्ट कर देता है।
  • सोयाबीन को भी कई तरह से अपने भोजन में इस्तेमाल करके अग्नाशयशोथ से बचा जा सकता है।
  • दही मुख्य रूप से पेट में बैक्टीरिया का संतुलन को विनियमित करने के पाचन क्षमता में सुधार के लिए है।

तो दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेन्ट करके जरुर बताना धन्यवाद्।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here