Rickets in Hindi

Rickets in Hindi || सूखा रोग के कारण और उपचार:

सूखा रोग विटामिन डी की कमी से होता है। यह बच्चों में होने वाला रोग है जिसमें बच्चों की हड्डियां मुलायम हो जाती हैं। कई बार हड्डियां इतनी कमजोर हो जाती हैं कि साधारण दबाव से भी टूट जाती हैं। कैल्शियम या फॉस्फोरस का स्तर बहुत कम होने के कारण भी यह हो सकता है।

जिन भी बच्चो को माँ का दूध नहीं मिल पाता है, या फिर पाचन तंत्र के कमजोर होने पर उन्हें दूध पच नहीं पाता है। ऐसे बच्चो का शरीर बिलकुल सुख जाता है और कमर पतली हो जाती है। रिकेट्स होने का खतरा खासकर ऐसी ही स्तिथि में होता है।Rickets in Hindi

Rickets Symptoms || सूखा रोग के लक्षण:

  • मांसपेशी में कमज़ोरी।
  • दंत विकृति।
  • हड्डी के फ्रैक्चर में वृद्धि।
  • हड्डियों में दर्द।
  • छोटा कद।
  • कंकाल विकृति।
  • लम्बाई बड़ने में समय लगता है।
  •  दाँतों में कैविटी होना।
  • दंतवल्क की कमी और दाँतों में देर से विकास होना सम्मिलित हैं।

Rickets Causes || सुखा रोग के कारण:

  • विटामिन डी की कमी से
  • सिस्टिक फाइब्रोसिस
  • गुर्दे से संबंधित समस्याएं
  • आहारनली से कैल्शियम और फास्फोरस  पोषक तत्वों की कमी से
  • सीलिएक रोग

Rickets Treatment || सुखा रोग का उपचार:

  • खाने पीने पर भी विशेष ध्यान दें। विटामिन सप्लिमेंट लिए जा सकते है
  • साथ ही अंडे की जर्दी, मछली औए दूध का प्रचुर मात्रा में सेवन करें।
  • रोजाना अंगूर और टमाटर का रस मिलाकर पिलाना चाहिये । इससे बच्चा सुखा रोग से बच सकता है ।
  • रात भर पानी में भीगी हुयी 2-3 बादाम को पीसकर दूध में मिलाकर कुछ दिनों तक बच्चे को पीलाने स्वस्थ्य हो जाता है
  • रोजाना टमाटर का जूस पिलाना चाहिये । कुछ ही दिनों में बच्चा ठीक हो जाता है ।
  • बच्चों का सुखा रोग ठीक करने के लिए कुछ दिनों तक लगातार दिन में 2 बार खजूर और शहद को एक सामान मात्रा में मिलाकर खिलाना चाहिये ।
  • ताजे बैगन का रस निकालकर उसमे थोड़ा सा सेधा नमक मिलाकर रोजाना बच्चे को एक चम्मच पीलाने से सुखा रोग ख़त्म हो जाता है ।
  • बच्चों को पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी का सेवन कराएं।
  • कुछ देर धूप में रहना भी जरूरी है इसलिये बच्चों को भी सन बाथ दें।

तो दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेंट्स करके जरुर बताना धन्यवाद्

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here