Tadasana Benefits

Tadasana Benefits || ताड़ासन योग: विधी, लाभ, सावधानीया :

शरीर की लम्बाई बढ़ाने और मांसपेशियों को लचीला बनाने के लिए इस आसन का प्रयोग किया जाता है। ताड़ासन का संधि विच्छेद करने पर यह – ताड़ + आसन शब्दों से बना होता है। यहाँ ताड़ का अर्थ ताड़ के पेड़ से है और आसन का अर्थ योग आसन से है।

इस योग को करने से शरीर की लम्बाई बढ़ती है। इसके अलावा इसे करने से शरीर सुडौल रहता है। शरीर में संतुलन बनता है और मजबूती आती है। Tadasana Benefits

ताड़ासन योग की विधी:

  • इसके लिए सबसे पहले आप खड़े हो जाए और अपने कमर एवं गर्दन को सीधा रखें।
  • अब आप अपने हाथ को सिर के ऊपर करें  और सांस लेते हुए धीरे धीरे पुरे शरीर को खींचें।
  • खिंचाव से पैर की अंगुली से लेकर हाथ की अंगुलियों तक महसूस करें।
  • इस अवस्था को कुछ समय के लिए बनाये रखें ओर सांस ले सांस  छोड़े।
  • फिर सांस छोड़ते हुए धीरे धीरे अपने हाथ एवं शरीर को पहली अवस्था में लेकर आयें।
  • इस तरह से एक चक्र पूरा हुआ।
  • कम से कम इसे चार से पांच बार प्रैक्टिस करें।

ताड़ासन योग के लाभ:

  • ताड़ासन लम्बाई बढाने का सबसे अच्छा योगासन है।
  • ताड़ासन वजन कम करने के लिए।
  • जाँघों और घुटनों को मजबूत करता है।
  • ताड़ासन पीठ की दर्द के लिए।
  • बढे हुए पेट को कम करने में काफी महत्वपूर्ण है।
  • घुटने की दर्द से राहत।
  • रीड की हड्डी के विकारों में भी लाभदायक है।
  • ताड़ासन एकाग्रता  और संतुलन के लिए।
  • कमर दर्द में फायदा देता है।
  • ताड़ासन पैरों को मजबूती देता है।
  • स्लिप डिस्क से परेशान व्यक्तियों के लिए लाभदायक योगासन है।

सावधानियाँ:

  • सिरदर्द और लो ब्लड प्रेस्सर वाले रोगी इसे न करे।
  • पैर में चोट या कोई ऑपरेशन हुआ हो तो इसका अभ्यास न करे।
  • ताड़ासन करने के पश्चात शीर्षासन से सम्बंधित कोई आसन जरुर करे।

तो दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेन्ट करके जरुर बताना धन्यवाद्।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here