Viral Fever Symptoms in Babies || वायरल बुखार के घरेलू नुस्खे

By | May 19, 2018

Viral Fever Symptoms in Babies || वायरल बुखार के घरेलू नुस्खे:

वायरस के संक्रमण से होने वाले बुखार को वायरल फीवर कहते हैं। वायरल बुखार के वायरस गले में सुप्तावस्था में निष्क्रिय रहते हैं। ठंडे वातावरण के संपर्क में आने, फ्रिज का ठंडा पानी, शीतल पेय पीने आदि से ये वायरस सक्रिय होकर हमारे प्रतिरक्षा तंत्र को प्रभावित कर देते हैं।

वायरल का फीवर हमारे इम्यून सिस्टम को कमजोर कर देता है, जिसकी वजह से शरीर में इंफेक्शन बहुत तेजी से बढ़ता है। वायरल के संक्रमण बहुत तेजी से एक इंसान से दूसरे इंसान तक पहुंच जाता है।

Viral Fever Symptoms in Babies

Viral Fever Symptoms in Babies

Viral Fever Symptoms || वायरल बुखार के लक्षण:

  • आँखें लाल होना
  • गले में दर्द
  • सिर दर्द थकान
  • उल्टी और दस्त होना
  • नाक बहना होना
  • बदन दर्द होना
  • भूख न लगना
  • लेटने के बाद उठने में कमजोरी महसूस करना

Viral Fever Treatment || बच्चों को वायरल बुखार के उपचार:

तुलसी के पत्ते का काढ़ा:

आधे से एक चम्मच लौंग पाउडर को करीब 20 ताजा और साफ तुलसी के पत्तों के साथ एक लीटर पानी में डालकर उबाल लें। पानी को तब तक उबालें जब तक कि पानी घट कर आधा न रह जाए। इस काढ़े का हर दो घंटे में सेवन करें।

जायफल:

जायफल को पीसकर माथे, छाती और नाक पर लेप करने से बुखार के रोग में आराम आता है।

गुनगुने पानी से स्नान:

  • 6 महीने से कम की आयु के शिशुओ के लिए कुनकुने पानी में स्पंज को भिगोकर 2 से 3 बार उनके शरीर को पोछे।
  • 6 महीने से ज्यादा की आयु के शिशुओ के लिए, उन्हें कुनकुने पानी से रोज़ नहलाये।
  • नहलाने के बाद उन्हें तुरंत कपडे पहना दे।

तुलसी:

  • एक मुट्ठी तुलसी को 2 कप पानी में उबाले।
  • उबालने के बाद उसमे थोड़ी सी शक्कर डाले और अपने शिशु को दिन में कुछ समय जरूर दे।
  • यदि आपके शिशु को कफ हुआ है तो शिशु को तुलसी की पत्तियाँ चबाने के लिए दीजिये।

पुदीना और अदरक:

पुदीना और अदरक का काढा पीने से बुखार उत्तर जाता है काढा पिलाकर घंटे भर आराम करवाए, हवा में न जाने दे।

लहसुन:

  • लहसुन की काली पांच से दस ग्राम तक काट कर तिल के तेल में या घी में तलकर सेंधा नमक डालकर खिलाइए
  • इससे सभी प्रकार का बुखार ठीक हो जाता है।

मेथी का पानी:

  • रसोई घर में आसानी से उपलब्ध, मेथी के बीज में डायेसजेनिन, सपोनिन्स और एल्कलॉइड जैसे औषधीय गुण शामिल है।
  • मेथी के बीजों का प्रयोग अन्य बहुत सी बीमारियों के इलाज में भी किया जाता है
  • और यह वायरल बुखार के लिए बेहतरीन औषधि है।

पीपल:

  • पीपल के फल के चूर्ण को बारीक पीसकर शहद के साथ मिलाकर बच्चे को चटाने से बुखार में लाभ होता है।

तो दोस्तों आज की यह पोस्ट केसी लगी कमेन्ट करके जरुर बताना। धन्यवाद् ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *